सोंठ के फायदे और और सेवन करने का सही तरीका | Sonth ke fayde

Need help? Call +91 95581 28414

Need help? +91 95581 28414

Need help? Call +91 95581 28414

सोंठ के फायदे और और सेवन करने का सही तरीका !

Posted on Mar 25, 2022
सोंठ के फायदे और और सेवन करने का सही तरीका !
Share this blog

सूखे अदरक यानि सोंठ के अद्भुत फायदे (Amazing Benefits of Dry Ginger in Hindi)

अदरक का इस्तेमाल तो आप रोजाना करते होंगे, लेकिन आज हम आपको सूखी अदरक यानि की सोंठ के फायदे बताने जा रहे है। गर्म तासीर होने की वजह से यह गर्मी के मुकाबले ठंडी के मौसम में ज्यादा इस्तेमाल होता है। 

सोंठ के एक नहीं अनेक फायदे (Sonth ke fayde in hindi) मिलेंगे यदि आप इसे सेवन करने का सही तरीका अपनाएंगे। लगभग सभी लोग इसका सेवन करते है पर अलग रूप में। बहुत लोग सोंठ के बारे में जानते है पर वही बहुत लोगों का सवाल होता है की ये सोंठ क्या है? तो चलिए आज मैं आप सभी को सोंठ के बारे में सम्पूर्ण जानकारी दे देता हूँ। दोस्तों सोंठ यानि सूखा अदरक (Dry ginger benefits in hindi). जी हाँ दोस्तों सोंठ अदरक का ही सूखा हुआ रूप है। जिस तरह अदरक वाली चाय टेस्टी और फायदेमंद होती है उसी प्रकार सोंठ के फायदे (Sonth ke fayde) भी लोगों को कई बिमारियों से दूर रखते है। तो आइये सबसे पहले सोंठ बनाने की विधि को समझते है फिर एक-एक करके सोंठ के बारे में सम्पूर्ण जानकारी आपको देंगे।

 

अदरक का परिचय (Introduction of Ginger)

दोस्तों,अदरक के पौधे की जड़ (Ginger Root ) को हम अदरक के नाम से जानते है। ये जमीन के अंदर तैयार होती है। इसकी फसल का समय पूरा हो जाने पर जब इसकी जड़ सही तरीके से पक जाती है तब इसे हम जमीन से खोदकर निकाल लेते है और आवश्यकतानुसार उपयोग करते है। अदरक (Ginger) का वानस्पतिक नाम जिनजिबेर ओफिसिनेल (Zingiber officinale) है ये जिनजीबेरेसी (Zingiberace) कुल का पौधा माना जाता है। एशिया में लगभग अदरक की 150 प्रजातियां पायी जाती है। ''मसाला परिवार'' होने की वजह से जिनजीबेरेसी का महत्त्व बहुत ज्यादा है।

इसे भी जरूर पढ़ें:- जानिए विदारीकंद के 5 बेहतरीन फायदे !

अदरक से सोंठ बनाने की विधि (How to make Dry ginger in Hindi)

सोंठ बनाने के लिए सोंठ की ताज़ी जड़ो (अदरक) को साफ़ पानी में रातभर भिगो के रखा जाता है। फिर किसी चाकू या छिलनी की मदद से इसका छिलका निकाल दिया जाता है। छिलने के बाद इसे दुबारा धोकर किसी साफ़ जाली या पतले सूती कपडे में रखकर हफ्ते भर सुखाया जाता है। इस तरह से अदरक सोंठ का रूप ले लेता है।

sonth banane ki widhi

सोंठ के औषधीय गुण (Medicinal properties of dry ginger)

सोंठ तीक्ष्ण स्वाद और गर्म तासीर वाली एक आयुर्वेदिक औषधि है, इसलिए गर्मी के मौसम इसे कम मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए। सोंठ में फाइबर, सोडियम, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक, फोलेट एसिड, फैटी एसिड जैसे कई सारे गुण पाए जाते हैं। जो सेहत (Health) सम्बन्धी कई तरह की समस्याओं को दूर करने में अच्छी भूमिका निभाते हैं। आइये आगे जानते है सोंठ सेहत संबंधी क्या-क्या फायदे देती है, और आप इस उपयोगी चीज का किस किस समस्या से राहत पाने में उपयोग कर सकते है।

इसे भी जरूर पढ़ें:- अशोक की छाल के गुण-धर्म, फायदे और नुकसान!

वजन घटाने में सहायक (Helpful in weight loss)

सौंठ ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करने और फैट को बर्न करने में मदद करता है। इसमें लिपिड प्रोफाइल कम करने की क्षमता होती है। अध्ययन के अनुसार सोंठ में थर्मोजेनिक गुण (Thermogenic properties) होता हैं, जो फैट बर्नर की तरह काम करता है। यह मेटाबॉलिज़्म क्रिया को बेहतर करके अनावश्यक चर्बी बनने से रोकता है। कई रिसर्च में पता चला है की गुनगुने पानी के साथ सोंठ के सेवन से भूख कम लगती है। सूखे हुए सोंठ को चूसकर या सोंठ पाउडर को गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से वजन कण्ट्रोल में रहता है।

 

जोड़ो के दर्द से राहत दिलाये (Relieve joint pain)

जोड़ो के तेज दर्द के लिए भी सोंठ बहुत फायदेमंद मानी जाती है। सोंठ में मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी तत्व जोड़ो के दर्द से राहत दिलाने का कार्य करते है। रात में सोने से पहले दूध में सोंठ डाल कर पीने से जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है। इतना ही नहीं इसके अलावा अगर सोंठ और गरम पानी के साथ शहद डाल कर पिएंगे तो भी आपको गठिया में लाभ होता है।

sonth benefits for joint pain in hindi

पाचन तंत्र मजबूत बनाये (Strengthen digestive system)

सोंठ पाचन तंत्र सुधाकर पाचन क्रिया मजबूत बनाने का कार्य करता है। सोंठ चूर्ण या पाउडर अपच, पुरानी कब्ज, पेट दर्द, दस्त, मतली और उल्टी, एसिडिटी या खट्टी डकार से परेशान लोगो के लिए बहुत फायदेमंद है। इन समस्याओं से राहत पाने के लिए रात्रि-भोजन और सुबह के नाश्ते के बाद सोंठ मिश्रित दूध का सेवन करें।

इसे भी जरूर पढ़ें:- जानिए आयुर्वेदिक हर्ब शंखपुष्पी के 10 बेहतरीन फायदे और उपयोग विधि

सर्दी-जुकाम और खांसी से राहत दिलाये (Relieves from Cold and cough)

सोंठ सर्दी-जुकाम और खांसी जैसी कफ संबंधी समस्याओं में बहुत फायदेमंद है। सर्दी-जुकाम को नजरअंदाज करने से सीने में कफ की परत जमा हो जाता है, इससे रात में सोने में काफी तकलीफ महसूस होती है। अगर आपको कफ और खांसी की समस्या है तो सुबह उठकर खाली पेट सोंठ पाउडर को गर्म पानी के साथ लें या सोंठ पाउडर, लौंग, काली  मिर्च, दालचीनी, तुलसी का पत्ता आदि मिलाकर काढ़ा भी बनाकर पी सकते हैं। यह कफ संबधित समस्याओं से जल्द आराम दिलाएगा।

sardi jukam me sonth ke fayde

कोलेस्ट्रॉल लेवल को रखे संतुलित (Keep balanced Cholesterol level)

कोलेस्ट्रॉल लेवल के बढ़ने से हार्ट अटैक जैसी गंभी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में सोंठ के नियमित सेवन से आप अपने कोलेस्ट्रॉल लेवल को संतुलित रख सकते है। सोंठ का नियमित सेवन करने से शरीर के कोलेस्ट्रॉल लेवल और ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है। सोंठ के सेवन से हार्ट को भी हेल्दी रखा जा सकता है, और हार्ट की समस्या को दूर।

इसे भी जरूर पढ़ें:- अशोक की छाल के गुण-धर्म, फायदे और नुकसान!

इम्युनिटी करे बूस्ट (Boost immunity)

अगर आप बार-बार सर्दी-जुकाम या बिमारियों की चपेट में आ जा रहे तो सावधान हो जाये। इसका मतलब है आपकी प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) कमजोर पद गयी है। सोंठ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत करने में मदद करता है। एंटी-बैक्टीरियल गुण होने की वजह से यह शरीर को कई तरह के संक्रमण से भी सुरक्षित रखता है।

immunity badhhane me sonth ke fayde

पीरियड्स के दर्द से राहत दिलाये (Get relief from period pain)

सोंठ का इस्तेमाल पीरियड्स के समय होने वाले पेट दर्द के साथ साथ शरीर के दर्द में भी आराम पहुंचाता है। वहीं इसके पाउडर का इस्तेमाल डिलीवरी के बाद पेट की सफाई के लिए भी किया जाता है। डिलीवरी होने के बाद सोंठ के लड्डुओं का सेवन पेट को साफ करके शरीर को स्फूर्ति प्रदान करने में मदद करता है।

इसे भी जरूर पढ़ें:- अर्जुन की छाल के है बहुत फायदे, जानिए सेवन करने का तरीका !

सोंठ के नुकसान (Side Effects Of Dry Ginger In Hindi)

एक उचित मात्रा में सोंठ के सेवन से फायदे मिलते है। हालाँकि अधिक मात्रा में सेवन करने पर सोंठ के सामान्य नुकसान देखने को भी मिल सकते है। सामान्य से अधिक मात्रा में सोंठ का सेवन करने से सीने में जलन, जी मिचलाना उल्टी और पेट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा कुछ लोगों को सोंठ से एलर्जिक रिएक्शन भी हो सकता है जो निम्न है -

  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • त्वचा में चकत्ते होना
  • शरीर के किसी हिस्से में खुजली
  • गला बैठना या गले में दर्द

प्रिय पाठकों, इस पोस्ट में कही सेवन मात्रा का उल्लेख नहीं हुआ है। अधिक मात्रा में सेवन करने पर यह फायदे की जगह नुकसान पंहुचा सकता है। कृपया क्रिटिकल परिस्थिति में अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञों से परामर्श जरूर कर लीजिए।

तो दोस्तो, हमारा ये आर्टिकल आपको कैसा लगा? अगर अच्छा लगा, तो इसे अन्य लोगों के साथ भी ज़रूर शेयर करें। ना जाने कौन-सी जानकारी किस ज़रूरतमंद के काम आ जाए हो सकता है इस जानकारी से किसी के समस्या का समाधान हो जाये। हम आपके लिए हेल्थ सम्बंधित और भी आर्टिकल लाते रहेंगे, धन्यवाद!!

(DISCLAIMER: This Site Is Not Intended To Provide Diagnosis, Treatment Or Medical Advice. Products, Services, Information And Other Content Provided On This Site, Including Information That May Be Provided On This Site Directly Or By Linking To Third-Party Websites Are Provided For Informational Purposes Only. Please Consult With A Physician Or Other Healthcare Professional Regarding Any Medical Or Health Related Diagnosis Or Treatment Options. The Results From The Products May Vary From Person To Person. Images shown here are for representation only, actual product may differ.)