Gotu kola ke Fayde - गोटू कोला के प्राकृतिक फायदे

Need help? Call +91 95581 28414

Need help? +91 95581 28414

Need help? Call +91 95581 28414

गोटू कोला : लाभ, उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Posted on Apr 07, 2022
गोटू कोला : लाभ, उपयोग और साइड इफेक्ट्स
Share this blog

गोटू कोला का परिचय और लाभ (Introduction and Benefits of Gotu Kola)

आज के समय में लोगो की बदलती दिनचर्या के चलते रहन सहन में काफी बदलाव आया है जिसके चलते इसका असर उनके स्वास्थ में भी पड़ने लगा है। अभी के समय में लोग इतने मार्डन बन चुके है कि वो प्राचीन काल उपयोग की जाने वाली चीजों से दूर होकर महंगी से मंहगी दवाइयों के उपयोग में लाना अच्छा समझते है। लेकिन हमारे आसपास ऐसी जड़ी बूटियां लगी रहती है जिनके फायदों से अनजान होने के कारण हम उन पर ध्यान नही देते। आयुर्वेद में इसी तरह की एक औषधि है गोटू कोला। गोटू कोला में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं जो सेहत और सुंदरता दोनों के लिए फायदेमंद होते हैं।

क्या है ये गोटू कोला?

सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी औषधीय गुणों वाले पौधों और पेड़ों का इस्तेमाल स्वास्थ्य लाभ के लिए किया जाता है। अगर बात करें भारत की तो यहां आयुर्वेद में जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल सदियों से होता आ रहा है। इसका वैज्ञानिक नाम सेंटेला आस्टीटिका (Centella asiatica) है। इसे ब्राह्मी बूटी या मण्डूकपर्णी भी कहते हैं। इसकी पत्तियां हरे रंग की होती हैं और इसमें बैंगनी, गुलाबी या फिर सफेद रंग के फूल आते हैं। गोटू कोला कई तरह की बीमारियों को दूर करने में मददगार होती है। यदि आप मानसिक तनाव से जूझ रहे हैं यो यह औषधि इससे निजात पाने का सबसे अच्छा उपचार है। आइए,जानते है गोटू कोला से होने वाले फायदों के बारे में..

गोटू कोला के लाभ (Benefits of Gotu Kola):-

घावों को जल्दी भरने में:-  गोटू कोला या ब्राह्मी में कई कार्बनिक यौगिक हैं जो कोशिकाओं में रक्त प्रवाह को उत्तेजित करते हैं और संक्रमण के खिलाफ सुरक्षा देते हैं। सर्जरी के निशान या किसी अन्य प्रकार के निशान की उपचार प्रक्रिया को गति देता है। गोटू कोला के पत्तियों का पाउडर बनाकर त्वचा के घाव पर लगायें, इसके लगाने से घाव वाले क्षेत्र में रक्तसंचार में सुधार होता है। मधुमेह के मरीजों के लिए ये ज्यादा असरदार है, इसे अल्सर वाले घाव या मामूली जली हुई त्वचा पर भी लगाया जा सकता है। 

मानसिक उलझन ख़त्म करने में:-  मानसिक उलझन के कई कारण हैं जैसे ज्यादा चिंता करना, बेहोशी, गहरी सोच, थकान आदि. गोटू कोला आपके इस मानसिक स्थिति को सुधारने का काम करती है. गोटू कोला मस्तिष्क की कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने के साथ-साथ मस्तिष्क में रक्त की आपूर्ति में सुधार करता है. इससे दिमाग में ऑक्सीजन का संचार होता है और उलझन ख़त्म हो जाती है।

बौद्धिक क्षमता को बढ़ाने में:-  आयुर्वेद में, बौद्धिक क्षमता को बढ़ावा देने के लिए गोटू कोला का उपयोग किया जाता है। इसके लिए ३ ग्राम इस ताजा जड़ी-बूटी को दूध में मिलाकर पेस्ट तैयार किया जाता है। इस पेस्ट को सुबह खाली पेट को दूध के साथ लेने से अच्छा परिणाम देता है। दोपहर के भोजन में हल्का शाकाहारी भोजन लें चाहिए। गोटा कोला के पाउडर को धी के साथ मिश्रित करने लेने से मानसिक क्षमता में सुधार होता है जो बच्चे को दिया जाता है। ऐसा लगातार 12 दिन करने पर आपकी बौद्धिक क्षमता में सुधार आता है।

जरुर पढ़े :-  स्मरणशक्ति कमजोर होने के कारण तथा इसे बढ़ाने का प्राकृतिक तरीका !

मेमोरी लॉस में:- मेमोरी लॉस के कई कारन हो सकते है, वह बढ़ती उम्र , डिमेंशिया , एमनेसिया , जैसे अलजाइमर रोग के कारण हो सकती है। गोटू कोला मेमोरी को सुधारने का काम करता है।

एमनेसिया में मस्तिष्क की चोट या क्षति के कारण मेमोरी लॉस हो जाता है। गोटू कोला मस्तिष्क में ऑक्सीडेटिव तनाव और मेमोरी लॉस करने में ,याद करने की क्षमता में सुधार करने और साथ ही एमनेसिया रोगी की मेमोरी को बढ़ाने में मदद करता है।

गोटू कोला बढ़ती उम्र के कारण हो रही संज्ञात्मक क्षति को सकारात्मक रूप से कम करता है। एक अध्ययन के अनुशार गोटू कोला बुजुर्ग लोगो में संज्ञात्मक प्रदर्शन , मूड और मेमोरी के सुधार के साथ जुड़ा हुआ है।

जरुर पढ़े :-  ब्राह्मी के सेवन से मिलेगी तेज याददास्त, तनाव से राहत और मजबूत दिमाग

नींद के लिए :- नींद न आने की बीमारी भी अब बदली हुई जीवन शैली के कारण आम होती जा रही है। गोटू कोला मानसिक ऊर्जा को फिर से स्थापित करके कोशिकाओं को पुनर्जीवित करता है.  इससे आपकी अनिद्रा दूर होती है. इसके लिए आप 3 ग्राम गोटू कोला पाउडर सोने से पहले एक कप दूध के साथ एक हफ्ते तक लें,  जिससे आपको पूरी तरह से नींद आने लगेगी और अनिद्रा के शिकार नहीं रहोगे।

तनाव कम करने में :- तनाव की स्थिति में व्यक्ति के अंदर कई परिवर्तन जैसे चिड़चिड़ापन उत्तेजना, बेचैनी, निराशा और आक्रामक व्यवहार होने लगते हैं। ऐसा मस्तिष्क में पित्त उत्तेजना के कारण होता है. ऐसे में आप गोटू कोला के साथ मुक्ता पिष्टी और जटामांसी का प्रयोग करें तो बेहतर परिणाम आता है।

गोटू कोला के इस तरह  इस्तेमाल करने पर आप अपनी समस्या का निवारण ला सकते है पर इस जड़ी-बूटी का सही तरह से इस्तेमाल करने पर जितने बेनिफिट है , इतना ही नुकशानकारक भी है।

क्या हैं गोटू कोला के नुकसान:-

गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसके सेवन से बचें।

गोटू कोला को अधिक मात्रा में लेने पर झपकी आने की समस्या हो सकती है।

चक्कर आना, उनींदापन और सिरदर्द भी दुष्प्रभाव हैं।

जिगर की बीमारियों वाले लोगों को इससे बचना चाहिए।

सर्जरी से गुजरने वाले लोगों को इससे बचना चाहिए।

मधुमेह और कोलेस्ट्रॉल रोगियों को इसके उपयोग से बचना चाहिए।

परेशान पेट, मितली और अजीब रंगीन मल भी हो सकती है।

 

तो दोस्तो, हमारा ये आर्टिकल आपको कैसा लगा? अगर अच्छा लगा, तो इसे अन्य लोगों के साथ भी ज़रूर शेयर करें। ना जाने कौन-सी जानकारी किस ज़रूरतमंद के काम आ जाए हो सकता है इस जानकारी से किसी के समस्या का समाधान हो जाये। हम आपके लिए हेल्थ सम्बंधित और भी आर्टिकल लाते रहेंगे, धन्यवाद!!

(DISCLAIMER: This Site Is Not Intended To Provide Diagnosis, Treatment Or Medical Advice. Products, Services, Information And Other Content Provided On This Site, Including Information That May Be Provided On This Site Directly Or By Linking To Third-Party Websites Are Provided For Informational Purposes Only. Please Consult With A Physician Or Other Healthcare Professional Regarding Any Medical Or Health Related Diagnosis Or Treatment Options. The Results From The Products May Vary From Person To Person. Images shown here are for representation only, actual product may differ.)